• जोधा बाई महल

जोधा बाई महल

मरियम उज़-ज़मानी बेगम उर्फ़ हीर कुंवारी, हीरा कुंवारी, हरका बाई या जोधा बाई , मुग़ल साम्राज्य की एक महारानी थी। वह सम्राट अकबर की पहली प्रमुख राजपूत पत्नी थीं( हालांकि अकबर की पहले से दो मुग़ल पत्नियां थीं)। वह उत्तराधिकारी जहाँगीर की माँ भी थीं।

मरियम उज़-ज़मानी बेगम को हिंदुस्तान की राजमाता के रूप में भी जाना जाता है क्योंकि वह सबसे लंबे समय तक सेवारत एकमात्र हिंदु मुग़ल महारानी थीं जिनका कार्यकाल, 6 फरवरी 1562 से 27 अक्टूबर 1605 तक का है यानि 43 वर्षों से अधिका का।

जोधा बाई और अकबर की शादी ने जोधा के धार्मिक एवं सामाजिक नीतियों के क्रमिक बदलाव का नेतृत्व किया। इसलिए जोधा और अकबर की शादी मुग़ल इतिहास का एक महत्वपूर्ण वाक्य है। यहाँ तक आधुनिक भारतीय इतिहास में यह माना जाता है कि वह ही अकबर एवं अन्य मुग़लों के धार्मिक मतभेद की सहनशीलता का उदाहरण हैं।

सभी महलों में सबसे बड़ा महल, जोधा बाई महल में अकबर की महारानी जोधा बाई रहती थीं। यहाँ गुजरात, मांडू एवं ग्वालियर की वास्तुकला का परम्परागत इस्लामी वास्तुकला के साथ मिश्रण किया गया है। साथ ही, इसकी नीली टाइलों से बनी छत, फ़तेहपुर सीकरी में अपने तरह की एकमात्र वास्तुकला है।