नंदगांव (नंदग्राम)
"नंदगांव, मथुरा से 51 किमी उत्तर-पूर्व की ओर एक पहाड़ी के नीचे स्थित है। ऐसा माना जाता है कि कृष्ण ने अपना बचपन यहीं बिताया था और उनके बचपन के कुछ निशान भी यहाँ पाए जाते हैं। "

यह भगवान कृष्ण के पालक पिता, नन्द के घर के रूप में जाना जाता है जिनकी याद में पर्वत के एक ओर एक भव्य मंदिर खड़ा है। अहाते के केंद्र में खड़ा यह मंदिर ऊंची मजबूत दीवारों से घिरा हुआ है, जहां से भरतपुर की पहाड़ियों का विस्तृत दृश्य दिखता है और इसका फैलाव मथुरा के गोवर्धन तक है।

नन्द भवन या नंदग्राम मंदिर: इस मंदिर में काले संगमरमर से बनी कृष्ण और बलराम की दो मूर्तियां हैं । वे सभी त्रि-वक्रीय मुद्रा में हैं और बांसुरी पकड़े हुए हैं। उनके बायीं और दायीं ओर यशोदा और नन्द महाराज की मूर्तियाँ हैं। माँ यशोदा की मूर्ति के साथ राधा देवी की मूर्ति है, एक छोटी मूर्ति रोहिणी देवी की (भगवान बलराम की माँ) और रेवती की है, जो कि बलराम की पत्नी है। नन्द महाराज के साथ कृष्ण के दो दोस्तों, सुदामा (शायद श्रीदामा) और मधुमंगला की मूर्तियाँ हैं। ये मूर्तियाँ मूलतः वज्रानाभ द्वारा इस मंदिर में स्थापित की गई थी। इस मंदिर को 19वीं शताब्दी की शुरुआत में रूपा सिंह  द्वारा बनवाया गया था।

नंदीश्वर मंदिर: नंदग्राम मंदिर के वेदिस्थल पर नंदीश्वर कहलाने वाला एक शिवलिंग है, कहा जाता है इसे वज्रनाभ ने स्थापित किया था।

पवन सरोवर: यह झील नंदीश्वर पर्वत की तलहटी पर स्थित है। यह भगवान कृष्ण की प्रिय झीलों में से एक मानी जाती है।

चरण पहाड़ी: नंदग्राम के दक्षिण-पश्चिमी छोर पर, काम्यवन जाने वाली सड़क के नजदीक स्थित है चरण पहाड़ी। यहां श्री कृष्ण के पैरों के निशान हैं।

उ. प्र. पर्यटन से जुड़ें   #uptourism   #UPNahiDekhaTohIndiaNahiDekha
अंतिम नवीनीकृत तिथि : शुक्रवार, Feb 1 2019 11:51AM