उत्तर प्रदेश पर्यटन आप सभी को 23वें गंगा महोत्सव में आमंत्रित करता है

31 अक्टूबर - 03 नवंबर, 2017

गंगा महोत्सव के दौरान पवित्र गंगा के तट पर सांस्कृतिक कार्यक्रमों के स्वरों की समता एवं अविस्मरणीय दृश्य एक ऐसा आनंदमयी अनुभव है जो शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता| हृदय का स्पर्श करने वाली शास्त्रीय संगीत के दिग्गजों द्वारा मनमोहक प्रस्तुतियां अपने में एक अनूठे अनुभव प्रदान करती हैं|

गंगा महोत्सव के समापन दिवस पर देव दीपावली का भव्य आयोजन किया जाता है| यह गंगा महोत्सव का मुख्य आकर्षण है| इस दौरान पवित्र गंगा नदी में तैरते लाखों मिट्टी के दीपक, सुगंधित धूप एवं पवित्र मंत्रों की ध्वनि वाराणसी को एक दिव्य माहौल में तल्लीन कर देती है| यह अपने आप में एक अद्भुत एवं मंत्रमुग्ध अनुभव है|

आइये और भव्य गंगा महोत्सव का आनंद उठाइए
उद्घाटन समारोह (31 अक्टूबर - 03 नवम्बर, 2017)

सांस्कृतिक कार्यक्रम

  • समय: प्रतिदिन सायं 5:30 बजे से
  • स्थान: डॉ. राजेन्द्र प्रसाद घाट, वाराणसी

31.10.2017

  • शहनाई वादन: श्री जवाहर लाल
  • शास्त्रीय गायन: डा. वेंकटेश कुमार
  • मोहनवीणा: पं. विश्वमोहन भट्ट
  • कथक: श्री राजेन्द्र गंगानी

01.11.2017

  • शास्त्रीय गायन: सुश्री अश्विनी भिड़े देशपाण्डे
  • बांसुरी - सरोद - तबला जुगलबंदी: श्री रोनू मजुमदार, श्री कुमार बोस एवं श्री देबज्योति बोस
  • भरतनाट्यम: सुश्री गीता चन्द्रन

02.11.2017

  • कथक: सुश्री अनु सिन्हा
  • तेहर ताली, भवई नृत्य एवं मांगड़यार गायन: श्रीमती गंगा देवी एवं सूमह

03.11.2016

  • शास्त्रीय गायन: श्री संजीव अभयंकर
  • संतूर वादन: श्री भजन सपोरी एवं श्री अभय रूस्तम सपोरी
  • कथक: श्री विशाल कृष्ण

समापन समारोह

दिनांक 03 नवम्बर 2017 सायं 5:30 बजे डॉ.राजेन्द्र प्रसाद घाट पर सम्पन्न होगा

03.11.2016

  • शास्त्रीय गायन: श्री संजीव अभयंकर
  • संतूर वादन: श्री भजन सपोरी एवं श्री अभय रूस्तम सपोरी
  • कथक: श्री विशाल कृष्ण

उ. प्र. पर्यटन से जुड़ें   #uptourism   #UPNahiDekhaTohIndiaNahiDekha
अंतिम नवीनीकृत तिथि : शनिवार, Jan 19 2019 7:11PM